April 25, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

80 के हुए दिशोम गुरु शिबू सोरेन कोयलांचल मना रहा है उनका जन्मदिन

2 min read

धनबाद—निरसा।झारखंड के लिए 11 जनवरी की तारीख बेहद खास है आज ही के दिन 11 जनवरी को दिशोम गुरू शिबू सोरेन 80 साल के हो गए. आज वो अपना 80वां जन्मदिन मना रहे हैं. शिबू सोरेन से दिशोम गुरू बनने की उनकी कहानी काफी संघर्ष भरी है। आज ही के दिन 1944 में उनका जन्म रामगढ़ के (नेमरा) गांव में हुआ था,शिबू सोरेन ने दशवीं तक की पढ़ाई की है, झारखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन उनके बेटे हैं,शिबू सोरेन के पिता सोबरन मांझी की 1957 में हत्या कर दी गई थी,वो महाजनी प्रथा के खिलाफ लगातार आंदोलन कर रहे थे, जंगल मे रह कर आदिवासियों का नेतृव कर रहे थे तब यह पूरा इलाका बिहार का हुआ करता था

पुलिस से बचने के लिए लगातार अपना स्थान बदलते रहते थे,टुंडी के मनियाडीह में शिबू आश्रम आज भी गवाह है।अपने पिता की हत्या के बाद ही शिबू सोरेन आदिवासी हित में उग्र होकर बोलने लगे, उन्होंने धान काटो आंदोलन चलाया।झारखंड मुक्ति मोर्चा का गठन 4 फरवरी 1972 में धनबाद में हुआ। शिबू सोरेन ने अलग झारखंड की मांग को लेकर आंदोलन चलाया, आपातकाल में उनके नाम का वारंट निकला, उन्होंने तब सरेंडर कर दिया।राजनीतिक मैदान में उनकी उपस्थिति:- दिशोम गुरु झारखंड के तीन बार मुख्यमंत्री बने वो पहली बार 1977 में चुनाव लड़े, तब वो हार गए,उसके बाद उन्होंने संथाल की ओर अपना रूख किया 1980 में वो पहली बार दुमका से जीते वो 8 बार यहां से जीते शिबू सोरेन दो बार राज्यसभा सांसद भी बने केंद्र में उन्होंने कोयला मंत्रालय का भार भी संभाला हैं वर्तमान स्वस्थ ठीक नही होने के कारण सक्रिय राजनीति से दूर हैं फिर भी संगठन एवं अपने पुत्रों को मार्गदर्शन देते रहते हैं।

Dhanbad—Nirsa. The date of 11th January is very special for Jharkhand. Today on 11th January, Dishom Guru Shibu Soren turned 80. Today he is celebrating his 80th birthday. His story of becoming Dishom Guru from Shibu Soren is quite a struggle. On this day in 1944, he was born in the village of Ramgarh (Nemra), Shibu Soren has studied till class 10th, the current Chief Minister of Jharkhand Hemant Soren is his son, Shibu Soren’s father Sobran Manjhi was murdered in 1957. He was continuously agitating against the Mahajani system, living in the forest and leading the tribals, at that time this entire area used to be in Bihar, he used to keep changing his place continuously to escape from the police, in Maniadih of Tundi. Shibu Ashram is a witness even today. Only after the murder of his father, Shibu Soren started speaking aggressively in the interest of tribals, he started the Paddy Cut Movement. Jharkhand Mukti Morcha was formed on 4 February 1972 in Dhanbad. Shibu Soren started a movement demanding a separate Jharkhand, a warrant was issued in his name during the Emergency, he then surrendered. His presence in the political field: – Dishom Guru became the Chief Minister of Jharkhand thrice. He contested elections for the first time in 1977, then He lost, after that he turned towards Santhal. In 1980, he won from Dumka for the first time. He won from here 8 times. Shibu Soren also became Rajya Sabha MP twice. He has also handled the charge of Coal Ministry at the Centre. Currently, his health is not good. Due to this, he is away from active politics, yet he keeps giving guidance to the organization and his sons.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *