July 21, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

अनेक खबरें , केंद्र ने नकली दवाएं बनाने वाली 18 कंपनियों पर कसा शिकंजा, निरीक्षण के बाद लाइसेंस किए रद्द

2 min read

 

भारत सरकार ने देश की 18 फार्मा कंपनियों के लाइसेंस रद्द कर दिए हैं। सरकार द्वारा यह कार्रवाई नकली दवाएं बनाने के आरोपों के बाद की गई है। हाल ही में भारतीय औषधि महानियंत्रक (DCGI) ने 20 राज्यों की 76 कंपनियों का निरीक्षण किया था। जिसके बाद सरकार द्वारा लाइसेंस रद्द करने की यह कार्रवाई की गई है।

नकली दवाएं बनाने वाले पर कार्रवाई

समाचार एजेंसी द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, केंद्र सरकार देशभर में नकली दवाएं बनाने वाली फार्मा कंपनियों के खिलाफ बड़े स्तर पर कार्रवाई कर रही है। हाल ही में भारतीय औषधि महानियंत्रक (DCGI) ने 20 राज्यों की 76 दवा निर्माता कंपनियों का निरीक्षण किया था। जिसके बाद 18 कंपनियों में नकली दवाएं बनाए जाने की बात सामने आई थी। सरकार ने संबंधित कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनके लाइसेंस रद्द कर दिए हैं।

अधिकांश कंपनियां हिमाचल प्रदेश की

जानकारी के मुताबिक, एक विशेष अभियान के तहत भारतीय औषधि महानियंत्रक ने कुल 203 फार्मा कंपनियां की पहचान की है। इनमें से अधिकांश कंपनियां हिमाचल प्रदेश (70), उत्तराखंड (45) और मध्य प्रदेश (23) की हैं। हाल ही में भारतीय दवा निर्माता कंपनियों द्वारा निर्मित दवाओं की गुणवत्ता पर सवाल उठे हैं। फरवरी में, तमिलनाडु स्थित ग्लोबल फार्मा हेल्थकेयर कंपनी ने अपनी दवा की पूरी खेप को वापस बुला लिया था। इससे पहले, पिछले साल गाम्बिया और उज्बेकिस्तान में बच्चों की मौत से कथित तौर पर भारत निर्मित कफ सिरप का कनेक्शन सामने आया था।

EPFO ने ब्याज दर 0.05% बढ़ाई:PF पर साल 2022-23 में 8.15% ब्याज मिलेगा

सरकार ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए PF अकाउंट में जमा राशि पर ब्याज दर को 8.10% से 0.05% बढ़ाकर 8.15% कर दिया है। एम्प्लॉइज प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन (EPFO) ने मंगलवार को इसका ऑफिस ऑर्डर जारी किया। वित्त वर्ष 2021-22 के लिए सरकार ने PF पर ब्याज दर को घटाकर 8.10% कर दिया था, जो 43 साल का सबसे निचला स्तर था। देश के करीब 6 करोड़ कर्मचारी PF के दायरे में आते हैं।

सेबी ने सुब्रत रॉय व कंपनियों से वसूला 6.57 करोड़ रुपए का बकाया

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने मंगलवार को कहा कि वैकल्पिक तौर पर पूर्ण रूप से परिवर्तनीय डिबेंचर (ओएफसीडी) जारी करने में नियमों का उल्लंघन करने पर उसने सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन, इसके प्रमुख सुब्रत रॉय और अन्य से 6.57 करोड़ रुपए का लंबित बकाया वसूल कर लिया है। बाजार नियामक सेबी ने वसूली आदेश में कहा, ‘‘6.57 करोड़ रुपए के बकाये का भुगतान पूरा हो चुका है। इसमें ब्याज एवं अन्य शुल्क शामिल हैं।”

नियामक ने दिसंबर में उपरोक्त संस्थान एवं व्यक्तियों के बैंक एवं डीमैट खातों को कुर्क कर दिया था। सेबी ने जून, 2022 में उनपर छह करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया था जिसका भुगतान नहीं होने पर वसूली की कार्यवाही शुरू की गई थी। यह मामला सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन द्वारा 2008-09 में ओएफसीडी जारी करने से संबंधित है। इन्हें जारी करने में कुछ नियमों का उल्लंघन किया गया था।

The Indian government has canceled the licenses of 18 pharma companies in the country. This action has been taken by the government after allegations of making fake medicines. Recently, the Drug Controller General of India (DCGI) inspected 76 companies from 20 states. After which this action of canceling the license has been taken by the government.

action against fake drug maker

According to the information given by the news agency, the central government is taking action on a large scale against the pharma companies making fake medicines across the country. Recently, the Drug Controller General of India (DCGI) inspected 76 drug manufacturing companies in 20 states. After which the matter of making fake medicines in 18 companies came to the fore. Taking action against the concerned companies, the government has canceled their licenses.

Most of the companies are from Himachal Pradesh.

According to information, a total of 203 pharma companies have been identified by the Drug Controller General of India under a special drive. Most of these companies are from Himachal Pradesh (70), Uttarakhand (45) and Madhya Pradesh (23). Recently questions have been raised on the quality of medicines manufactured by Indian pharmaceutical companies. In February, Tamil Nadu-based Global Pharma Healthcare had recalled the entire consignment of its drug. Earlier, last year, the connection of Indian-made cough syrup to the death of children in Gambia and Uzbekistan had come to the fore.

EPFO increased the interest rate by 0.05%: PF will get 8.15% interest in the year 2022-23

The government has increased the interest rate on deposits in PF account by 0.05% from 8.10% to 8.15% for the financial year 2022-23. Employees Provident Fund Organization (EPFO) issued its office order on Tuesday. For the financial year 2021-22, the government had reduced the interest rate on PF to 8.10%, which was the lowest level in 43 years. About 6 crore employees of the country come under the ambit of PF.

SEBI recovers Rs 6.57 crore dues from Subrata Roy and companies

The Securities and Exchange Board of India (SEBI) on Tuesday said it has fined Sahara India Real Estate Ltd for flouting norms while issuing Optionally Fully Convertible Debentures (OFCDs).

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *