June 17, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

ब्राह्मण समाज के द्वारा 12 मार्च को श्री जगन्नाथ मंदिर परिसर में सामूहिक उपनयन संस्कार का आयोजन किया

1 min read

सरायकेला प्राचीन जगन्नाथ मंदिर में उत्कल या ब्राह्मण समाज के द्वारा 12 मार्च को श्री जगन्नाथ मंदिर परिसर में सामूहिक उपनयन संस्कार का आयोजन किया जा रहा है जिसमें 29 ब्रह्मा कुंवा री का एक साथ सामूहिक उपनयन संस्कार कराया जाएगा इस आयोजन को सफल बनाने के लिए समाज के एक बैठक रामनाथ आचार्य की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्य रूप से सामूहिक संस्कार कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की गई इस कार्यक्रम में मुख्य पुजारी के रूप में पंडित नीलकंठ सारंगी एवं पंडित घासीराम सतपति रहेंगे इन पुजारियों की सहयोग करने के लिए रंजन कुमार पति हर्बी महापात्र देवी प्रसन्ना सारंगी मीनू सारंगी एवं अ सी त दास रहेंगे पिछले 5 सालों से ब्राह्मण समाज द्वारा प्रत्येक वर्ष यह अनुष्ठान का आयोजन किया जा रहा है इसमें ना सिर्फ ब्राह्मण समाज के सशक्त एवं संगठित बनाने का प्रा या श भी किया जा रहा है बल्कि स्थानीय लोगों को भी इससे काफी लाभ पहुंच रही है सन 1730 में तत्कालीन प्रशासक द्वारा इस इतिहासिक जगन्नाथ मंदिर का निर्माण कराया गया था प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी श्री जगन्नाथ मंदिर परिसर में सामूहिक उपनयन संस्कार अनुष्ठान में सैकड़ों संख्या में भक्त उमड़ने की संभावना है स्थानीय कमेटी द्वारा सिविल सर्जन से मेडिकल टीम भी उपलब्धियों कराने की मांग की गई है इस बैठक में उपस्थित बादल दुबे गणेश सतपति देव प्रसन्न सारंगी संजय कुमार पति चंद्रशेखर कर रंजन कुमार पति प्रताप चंद्र मिश्रा सुरेंद्र कुमार महापात्र परशुराम कवि गौरी आचार्य तुषार कांत दुबे अभिषेक कवि राजेश महापात्र सुमित उपस्थित थे

 

In Seraikela ancient Jagannath Temple, Utkal or Brahmin Samaj is going to organize mass Upanayan Sanskar in Shri Jagannath Temple premises on March 12, in which mass Upanayan Sanskar of 29 Brahma Kunwa Ri will be performed together. In a meeting chaired by Ramnath Acharya, the outline of mass rites program was mainly prepared. In this program, Pandit Neelkanth Sarangi and Pandit Ghasiram Satpati will be the chief priests, Ranjan Kumar husband Harbi Mahapatra Devi to support these priests. Prasanna Sarangi, Meenu Sarangi and Asit Das will remain. For the last 5 years, this ritual is being organized every year by the Brahmin community, in which not only the efforts are being made to make the Brahmin community strong and united, but also the local people. This historical Jagannath temple was also getting a lot of benefit from it in the year 1730 by the then administrator. Devotees are likely to turn up in large numbers. The local committee has also demanded to organize a medical team from the civil surgeon. Badal Dubey, Ganesh Satpati Dev, Prasanna Sarangi, Sanjay Kumar, husband Chandrashekhar Kar, Ranjan Kumar, husband, Pratap Chandra Mishra, Surendra Kumar, Mahapatra, Parshuram were also present in the meeting. Poet Gauri Acharya Tushar Kant Dubey Abhishek Poet Rajesh Mohapatra Sumit was present

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *