June 17, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

श्री रघुनाथ जी महाप्रभु की प्राचीन मंदिरों की पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का प्रस्ताव पर्सन विभाग को भेजा

2 min read

सरायकेला खरसावां जिला के राजनगर प्रखंड के अंतर्गत इच् गांव में अवस्थित श्री रघुनाथ जी महाप्रभु की प्राचीन मंदिरों की पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का प्रस्ताव पर्सन विभाग को भेजा गयाराजनगर प्रखंड के अंतर्गत इच् गांव में अवस्थित श्री रघुनाथ जी महाप्रभु की प्राचीन मंदिरों की पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का प्रस्ताव पर्सन विभाग को भेजा गया है यह मंदिर करीब 260 साल पुराना है तत्कालीन ई राजा गंगाराम सिंह देव ने इसका निर्माण करवाया था सरायकेला खरसावां जिला के उपायुक्त ने बीती 16 फरवरी 2023 को प्रखंड विकास पदाधिकारी को मंदिर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए प्रपत्र के रूप में विकसित करने के लिए पत्र भरकर 1 सप्ताह के अंदर भेजने का निर्देश दिया था जिसके बाद वीडियो ने पर्यटन हेतु आवश्यक सुविधाओं की विवरण भेज दिया जिसमें शौचालय पेयजल की सुविधा लाइटिंग पर्यटकों के लिए बैठने की सुविधा सहित तमाम जरूरी चीजों को विकसित करने का प्रस्ताव पत्र में शामिल है मालूम है कि गत वर्ष 16 दिसंबर 2022 को उपायुक्त की अध्यक्षता में जिला स्तरीय पर्यटन संवर्धन परिषद की बैठक हुई थी जिसमें जिले में नए पर्यटन स्थलों को जोड़ा गया था इच् मैं ना केवल महाप्रभु रघुनाथ जी का मंदिर है बल्कि यहां मां दुर्गा मां बावड़ी और भगवान भोले शंकर का भी मंदिर है जिससे रामनवमी दशहरा महाशिवरात्रि एवं मकर संक्रांति के अवसर पर हजारों की भीड़ होती है अनुमान के मुताबिक यहां त्यौहार और आम दिनों को मिलाकर सालाना 80 से 100000 लोग पहुंचते हैं यदि सरकार द्वारा इससे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाता है तो क्षेत्र का अच्छा विकास होगा यह स्थल चाईबासा से पूर्व की ओर 8 किलोमीटर एवं सरायकेला खरसावां जिला मुख्यालय से दक्षिण की ओर से 32 किलोमीटर दूरी पर अवस्थित सिंह देव परिवार के बं स ज कर रहे हैं मंदिर के देखरेख राजबाड़ी का दौरा खत्म हो जाने के बाद इच् स्थित महाप्रभु रघुनाथ जी का मंदिर का रखरखाव गंगाराम सिंह देव केवल बं स ज ही करते आ रहे हैं यहां के राजमहल खंडहर में तब्दील हो गया है परंतु किसी तरह प्रभु राम के प्राचीन मंदिर को उनके द्वारा आज भी सुरक्षित रखी हुई है आज भी यहां 260 वर्षों से लगातार पूजा पाठ होता है सरकार की इस पहल से गांव के आसपास के लोग काफी खुशी हैं राजेश सिंह देव इससे काफी खुशी है उन्होंने कहा कि सरकार को यह बहुत पहले ही करना चाहिए था यह हमारा सांस्कृतिक धरोहर है पहले पुरातत्व विभाग ने भी इसका सर्वेक्षण किया था

The proposal to develop the ancient temples of Shri Raghunathji Mahaprabhu located in Ich village under Rajnagar block of Seraikela Kharsawan district as a tourist destination was sent to the Department of Personnel The proposal to develop as a site has been sent to the Person Department. This temple is about 260 years old, the then E Raja Gangaram Singh Dev had got it constructed. The Deputy Commissioner of Seraikela Kharsawan district visited the temple on February 16, 2023, to the Block Development Officer. To develop as a venue, it was instructed to fill the letter and send it within 1 week, after which the video sent the details of the necessary facilities for tourism, including toilets, drinking water facilities, lighting, seating for tourists. The proposal to develop all the necessary things including facilities is included in the letter. It is known that last year on December 16, 2022, a meeting of the District Level Tourism Promotion Council was held under the chairmanship of the Deputy Commissioner, in which the district New tourist places were added. Not only is there a temple of Mahaprabhu Raghunath ji, but there is also a temple of Maa Durga, Maa Bawdi and Lord Bhole Shankar, due to which there is a crowd of thousands on the occasion of Ram Navami, Dussehra, Mahashivaratri and Makar Sankranti. 80 to 100000 people reach annually including festivals and common days. If the government develops it as a tourist destination, then the area will be well developed. This place is 8 kilometers east of Chaibasa and south of Seraikela Kharsawan district headquarters. Located at a distance of 32 kms, the temple is being looked after by the descendants of the Singh Dev family. Rajmahal has turned into ruins, but somehow the ancient temple of Lord Rama has been preserved by them even today. Even today, worship is done here continuously for 260 years. People around the village are very happy with this initiative of the government. Rajesh Singh God is very happy with this he said

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *