April 23, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

चक्रधरपुर पंडित दुर्गा चरण कर साहित्य संस्था की ओर से मातृभाषा की रक्षा करने वाले उत्कल सम्मेलनी ओड़िया शिक्षकों को किया गया सम्मानित

2 min read

चक्रधरपुर के उत्क्रमणीय उडिया उच्च विद्यालय कुसुम कुंज चक्रधरपुर में उत्कल सम्मेलनी के शिक्षक शिक्षिकाओं को पंडित दुर्गा चरण कर साहित्य संस्था की ओर से सम्मानित किया गया इस कार्यक्रम में पश्चिम सिंहभूम जिले के 40 शिक्षक शिक्षिकाएं शामिल थे आयोजक पंडित दुर्गा चरण कर संस्था के संयीजक सत्य प्रकाश कर ने कहा कि मातृभाषा सेवक और सेविका सम्मान समारोह 2023 का आज आयोजन किया गया इसमें उड़िया भाषा साहित्य की विकास के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले उत्कल सम्मेलनों के 40 उड़िया शिक्षक शिक्षिकाओं को सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया कर ने कहा कि मातृ भूमि और मातृभाषा के प्रति प्रेम को करतब बताते हुए कहा कि भविष्य में वे चाहे जिस क्षेत्र में जाएं लेकिन अपनी मातृभाषा के प्रति प्रेम बनाए रखें दुनिया को भाषाएं सीखने में कोई बुराई नहीं लेकिन अपने घर और समाज में अपने मातृभाषा का इस्तेमाल करना चाहिए वरना इसकी पहचान खो जाएगी उन्होंने कहा की मातृभाषा को बोलना और मातृभूमि की प्रति श्रद्धा रखना और उसे प्यार करना हमारा कर्तव्य है। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि झारखंड अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अशोक सारंगी, सम्मानित अतिथि में सेवानिवृत्ति प्रोफेसर डॉ नागेश्वर प्रधान, मुख्य वक्ता उत्कल सम्मेलनी के जिला अध्यक्ष प्रदीप कुमार दास, उत्कल सम्मेलनी के पूर्व अध्यक्ष वर्तमान जिला परी दर्शक सरोज प्रधान, जिला सचिव अंबिका चरण दीक्षित, पूर्व सचिव पुलिंदु नंदा, आदि ओड़िया भाषा के महत्व पर प्रकाश डालें। इन ओड़िया शिक्षकों को क्या सम्मानित, जिसमें मुख्य रूप से अंगूर वाला प्रधान अनीता पुरसैट, आरती मंडल बसंती महतो विनोदिनी सिंह अंजलि नायक , कुनी बारिक, तिलीतमा दीक्षित संगीत प्रधान विद्यावती गिरि, निराला प्रधान पुष्प लता मंडल बृंदावती प्रधान सुनीता प्रधान उमा चरण प्रधान रमेश प्रधान , पितबास प्रधान संतोष कुंभकार बसंत प्रधान आदि मौजूद थे।

Teachers of Utkal Sammeeli were honored by Pandit Durga Charan Kar Sahitya Sanstha at Utkramani Oriya High School, Kusum Kunj Chakradharpur. 40 teachers from West Singhbhum district were included in this program. Organizer Pandit Durga Charan Kar Sanstha’s coordinator Satya Prakash. Kar said that the Matribhasha Sevak and Sevika Samman Ceremony 2023 was organized today, in which 40 Oriya teachers of Utkal conferences, who have done remarkable work in the field of development of Oriya language literature, were honored with certificates. Kar said that motherland and mother tongue Describing the love for language as a feat, he said that whatever field they go into in the future, they should maintain love for their mother tongue. There is no harm in learning languages of the world, but one should use one’s mother tongue in one’s home and society, otherwise its identity will be lost. He said that it is our duty to speak the mother tongue and have respect for the motherland and love it. In this program, the chief guest was Ashok Sarangi, former vice-president of Jharkhand Minority Commission, the guest of honor was retired professor Dr. Nageshwar Pradhan, the main speaker was District President of Utkal Sammelan Pradeep Kumar Das, former president of Utkal Sammelan, current district fair visitor Saroj Pradhan, District Secretary Ambika Charan. Dixit, former secretary Pulindu Nanda, etc. highlight the importance of Odia language. What honor were given to these Odia teachers, mainly Angoorwala Pradhan Anita Pursat, Aarti Mandal Basanti Mahato Vinodini Singh Anjali Nayak, Kuni Barik, Tilitama Dixit Sangeet Pradhan Vidyavati Giri, Nirala Pradhan Pushp Lata Mandal Brindavati Pradhan Sunita Pradhan Uma Charan Pradhan Ramesh Pradhan , Pitabas Pradhan Santosh Kumbhakar Basant Pradhan etc. were present.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *