July 22, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

खरसावां के लीसीदिकी में मां मनसा की पूजा पर दहकते अंगारों पर चलकर भक्तों ने दिखाई भक्ति

1 min read

खरसावां प्रखंड के अंतर्गत लीसीदिकी में मां मनसा पूजा पर श्रद्धालुओं दहकते अंगारों पर चलकर दिखाई भक्ति इस अवसर पर खरसावां विधायक दशरथ गागराई भी शामिल हुई ग्रामीणों ने पारंपरिक विधि विधान के तहत मां मनसा पूजा की वही भक्तों ने जलते हुए अंगारों पर चलाकर अपने भक्तों दिखाई सभी भक्तों ने अपने शरीर को कष्ट देकर अपने आराध्य देवी मां मनसा से किया वादा पूरा किया ग्रामीण कहते हैं की मन व आत्मा की शांति के लिए शरीर को कष्ट देने से भक्तों की सुकून मिलता है ग्रामीण ने बताया कि खरसावां लीसीदिकी मैं बषौ से परंपराओं के अनुसार धार्मिक अनुष्ठान का भी आयोजन किया गया ग्रामीणों को माने तो मनसा देवी से मांगी गई मन्नते पूरी होने की खुशी में यह पूजा की जाती है ढोल , नगाड़े की थप पर आग के जलते शीले पर चलने वाली में महिला बुजुर्ग समेत कई लोग शामिल हुए कईं महिला अपने गीद में बच्चों को लेकर आग पर चली। खरसावां विधायक दशरथ गागराई भी अपने परिवार के साथ शामिल होकर माथा टेका इस दौरान काफी संख्या में मां मनसा की भक्ति गण उपस्थित थे

Devotees showed their devotion by walking on burning embers on Maa Mansa Puja in Lisidiki under Kharsawan block. On this occasion, Kharsawan MLA Dashrath Gagrai also participated. The villagers performed Maa Mansa Puja as per traditional rituals. The same devotees showed their devotion by walking on burning embers. The devotees fulfilled the promise made to their adored goddess Maa Mansa by torturing their body. The villagers say that by torturing the body for the peace of mind and soul, the devotees get solace. The villager said that according to traditions, Kharsawan Lisidiki is from Bashau. Religious rituals were also organized. If the villagers are to be believed, this puja is performed to celebrate the fulfillment of the vow made to Mansa Devi. Many people, including elderly women, participated in walking on burning rocks to the beat of drums and drums. She walked through the fire with the children in her saddle. Kharsawan MLA Dashrath Gagrai also joined his family and paid obeisance. During this, a large number of devotees of Maa Mansa were present.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *