May 23, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

*महालीमोरूप रेलवे फाटक की समस्या के निष्पादन हेतू रेलवे मंडल प्रबंधक चक्रधरपुर के नाम प्रतिलिपि क्षेत्रीय प्रतिनिधिमंडल ने खरसावां विधायक दशरथ को एक मांग पत्र सौंपा*

2 min read

सरायकेला प्रखंड अंतर्गत महालीमोरूप रेलवे स्टेशन के पूर्वी छोर पर स्थित रेलवे फाटक अक्सर बंद रहने के कारण राहगीरों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । यहां घंटो घंटों तक अक्सर फाटक बंद रहता है, गेटकीपर को पूछने पर वे अपना पल्ला झाड़ देते हैं कि इस गेट का लॉकिंग सिस्टम स्टेशन मास्टर के पास है। वह जब चाबी देंगे तभी हम खोल सकते हैं ।हद तो तब हो जाती है जब 10-12 ट्रेन आर पार होने के बावजूद भी गेटकीपर गेट खोलने की स्थिति में नहीं रहती है। दिक्कत तब और बढ जाती है जब झारखंड श्री सीमेंट कंपनी पर कोई मालवाहक ट्रेन घुसती है या फिर निकलती है । तब लोगों को फाटक पर इंतजार करते-करते घंटो बीत जाते हैं ।यहां तक की स्कूल आने जाने वाले बच्चे, हॉस्पिटल जाने वाली एंबुलेंस , इमरजेंसी में यात्रा कर रहे यात्री व आमलोगों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है ,और इसका सुधि लेने वाला कोई नहीं। इन सारी परेशानियों को लोगों ने अपने जनसेवक, जन-जन के नेता श्री दशरथ गागराई जी से मिलकर समस्या के निष्पादन हेतु गुहार लगाई हैं। उन्होंने बताया कि बार-बार डीआरएम के नाम चिट्ठी लिखने के बावजूद भी समस्या का निष्पादन ना होना सबसे बड़ी समस्या है । खरसावां विधायक को जल्द से जल्द समस्या का निष्पादन हेतु तत्परता लाने के लिए एक मांग पत्र सौंपा ताकि क्षेत्र के लोगों हेतू रेलवे फाटक समस्या का निराकरण अंडरग्राउंड ब्रिज का निर्माण करने के लिए आग्रह किया है। मौके पर नीलसेन प्रधान, नागेश्वर प्रधान, हेमसागर प्रधान, जगन्नाथ प्रधान, देवदत्त प्रधान, राजेंद्र प्रधान, संजय प्रधान, अजीत प्रधान अंतर्यामी प्रधान आदि उपस्थित थे।

Passengers are facing a lot of trouble due to the railway gate located at the eastern end of Mahalimorup railway station under Seraikela block being often closed. Here the gate often remains closed for hours, on asking the gatekeeper they deny that the locking system of this gate is with the station master. We can open the gate only when they give us the key. The limit is reached when even after 10-12 trains pass through, the gatekeeper is not in a position to open the gate. The problem increases when a goods train enters or leaves Jharkhand Shree Cement Company. Then people spend hours waiting at the gate. Even children going to school, ambulances going to hospital, passengers traveling in emergency and common people have to face a lot of problems, and the one who takes care of it. nobody. Due to all these problems, people have met their public servant and people’s leader Shri Dashrath Gagrai ji and requested him to solve the problem. He told that despite repeatedly writing letters to DRM, the biggest problem is the non-implementation of the problem. A demand letter was handed over to the Kharsawan MLA to bring readiness to solve the problem as soon as possible so that the people of the area could solve the railway gate problem by constructing an underground bridge. Neelsen Pradhan, Nageshwar Pradhan, Hemsagar Pradhan, Jagannath Pradhan, Devdutt Pradhan, Rajendra Pradhan, Sanjay Pradhan, Ajit Pradhan Antaryami Pradhan etc. were present on the occasion.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *