July 24, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

खरसावां__ कुचाई में बहनों ने भाइयों को राखी बांधकर रक्षा का लिया संकल्प

1 min read

खरसावां, कुचाई व बडाबामबो के विभिन्न क्षेत्र में बुधवार और गुरुवार सुबह 7 बजे तक श्रावण माह के पूर्णिमा के दिन स्नेह शांति एवं रक्षा का पुनीत पर्व रक्षाबंधन मनाया गया उज्जवल भविष्य की मंगल कामना करते हुए राखी की धागो की उनकी कलाई पर बाधी। हिंदू संस्कृति के अनुसार रक्षाबंधन को भाई-बहन की पवित्र रिश्ते का त्योहार माना जाता है परंपरा अनुसार भाइयों ने अपने बहनों को उपहार देकर रक्षा का वचन दिया । खरसावां कुचाई व बडाबामबो क्षेत्र में सुबह से ही रक्षाबंधन मनाए जाने का सिलसिला आरंभ हो गया पंचांग देखकर शुभ समय में समारोह पूर्वक रक्षाबंधन मनाया। खरसावां शहरी क्षेत्र के अलावा बुरूडीह, पदमपुर, अरुवा, आमदा, गीढपुर, देहरुडीह, शिमला, चिलकु, कृष्णापुर, जीरडीहा, जीजीडीह, जीजीहातु, रामगढ़ लालबाजार, सहित दुर दराज के गांव में भी रक्षाबंधन का पर्व परंपरागत ढंग से मनाया गया वही रक्षाबंधन को लेकर बाजार में राखी मिठाई की दुकान पर काफी भीड़ रही।

Raksha Bandhan, the holy festival of love, peace and protection, was celebrated on the full moon day of Shravan month in various areas of Kharsawan, Kuchai and Badabambo till 7 am on Wednesday and Thursday. Rakhi threads were tied on their wrists while praying for a bright future. According to Hindu culture, Rakshabandhan is considered a festival of sacred relationship between brother and sister. According to tradition, brothers give gifts to their sisters and promise to protect them. The process of celebrating Rakshabandhan started from morning in Kharsawan Kuchai and Badabambo areas. Rakshabandhan was celebrated ceremoniously at the auspicious time after seeing the almanac. Apart from Kharsawan urban area, the festival of Rakshabandhan was also celebrated in the traditional manner in remote villages including Burudih, Padampur, Aruva, Amda, Gidhpur, Dehrudih, Shimla, Chilku, Krishnapur, Jiridha, Jijidih, Jijihatu, Ramgarh Lalbazar. There was a lot of crowd at the Rakhi sweets shop in the market.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *