July 22, 2024

INDIA FIRST NEWS

Satya ke saath !! sadev !!

शुभ मुहूर्त में धनतेरस पर सरायकेला खरसावां बाजार में खरीदारी करने में पहुंच रहे लोग।

2 min read

सरायकेला खरसावां में धनतेरस के शुभ मौके पर लोग जमकर खरीदारी करते देखे ग ए , वही आभूषण दुकान, दोपाह वाहन के शोरूम, बाजार में आज झाड़ू की खरीदारी लोग जमकर खरीदारी करते देखी गई , आभूषण दुकानों में भी दोपहर के बाद खरीदारी करने ग्राहकों की भीड़ देखी गई धनतेरस के शुभ मौके पर लोग आभूषण दुकानों में शुभ मुहूर्त देखकर खरीदारी करने पहुंचे। दीपावली की त्यीहार विशेष महत्व माना जाता है पांच दिनों तक चलने वाले इस त्यीहार की शुरुआत धनतेरस से होती है इसका समापन भाई दूज के दिन होता है लोग महीना पहले से घर की साफ सफाई और खरीदारी सहित इस त्यीहार की तैयारियों में जुट जाते हैं धनतेरस के दिन लोग सोने चांदी के आभूषण, बर्तन और झाड़ू खरीदते हैं धनतेरस पर झाड़ू खरीदने के बाद उसका पूजन भी किया जाता है कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष के त्रयीदशो तिथि को धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है ऐसी मान्यता है कि इस दिन समुद्र मंथन से भगवान धनव। ।

धनवनतरि, माता लक्ष्मी प्रकट हुए थे तभी से इस दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा उसी दिन से सोना चांदी के आभूषण, बर्तन और झाड़ू , नया गाड़ी आदि की खरीदारी करने से घर में सुख समृद्ध आती है ऐसा मान्यता है कि इस दिन खरीदी गई चीज में 13 गुना बुद्धि होती है पुराण के अनुसार झाड़ू की मां लक्ष्मी का रूप माना गया है ऐसी मान्यता है की झाड़ू से घर की गंदगी के साथ ही दरिद्रता भी दूर होती है यही वजह है की धनतेरस के दिन सभी घरों में नई झाड़ू लाई जाती है उसके बाद इसका पूजन भी किया जाता है धनतेरस के दिन नया झाड़ू खरीदने के बाद उसे पर सफेद रंग का धागा भी बांधना चाहिए ऐसा करने से मां लक्ष्मी की कृपा घर पर बनी रहती है।

In Seraikela Kharsawan, on the auspicious occasion of Dhanteras, people were seen doing a lot of shopping. People were seen doing a lot of shopping in jewelery shops, vehicle showrooms, brooms in the market today. Even in the jewelery shops, there was a crowd of customers shopping after noon. On the auspicious occasion of Dhanteras, people reached the jewelery shops to make purchases after seeing the auspicious time. The festival of Diwali is considered to have special significance. This festival, which lasts for five days, starts with Dhanteras and ends on the day of Bhai Dooj. People start preparing for this festival a month in advance, including cleaning the house and shopping. On this day, people buy gold and silver jewellery, utensils and brooms. After buying the broom on Dhanteras, it is also worshiped. The festival of Dhanteras is celebrated on the Trayidasho date of Krishna Paksha of Kartik month. It is believed that on this day, Lord Dhanava is born from the churning of the ocean. . ,

Dhanvantari, Mata Lakshmi had appeared since then this day started being celebrated as Dhanteras. From that very day purchasing gold and silver jewellery, utensils and brooms, new car etc. brings happiness and prosperity in the house. It is believed that on this day The thing bought has 13 times the intelligence. According to the Purana, the broom is considered to be the form of Mother Lakshmi. It is believed that the broom removes not only the dirt from the house but also the poverty, that is why on the day of Dhanteras, new brooms are bought in all the houses. After it is brought, it is also worshiped. After buying a new broom on the day of Dhanteras, a white thread should also be tied on it. By doing this, the blessings of Goddess Lakshmi remain at home.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *